Friday, May 15, 2009

जिक्र

जिक्र भी मेरा उसे मंज़ूर नही ,
पर चाहती है की हम रहे उनसे दूर नही /
किस कदर हम उनसे कुछ कह पते ,
आख़िर हम तो यहाँ उनकी तरह मशहूर नही //

1 comment:

  1. kiske liye likha gya h ye sab hanji [:P]

    ReplyDelete